साधना के पथ पर

अद्य की स्याही

50 Posts

1446 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8647 postid : 605

ससुरवां रास आ गइल

  • SocialTwist Tell-a-Friend

होली मुबारक!

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,

ससुरवां रास आ गइल.

उठी-सुती देखेनी सपनवां,
सजनवा रास आ गइल.
माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

कैसे के जाई नैहरवा,
फगुनवा मास आ गइल.
बाजे ढोल औरी नगड़वां,
फगुनवा मास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

सास-ससुर के हम दिल के टुकड़वा,
ससुरवां रास आ गइल.
देवर मिलले, लक्ष्मण समानवा,
ससुरवां रास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

सैयां मारे तिरछी नयनवा,
फगुनवा मास आ गइल.
रंग में डूबल, तन औरी मनवा,
फगुनवा मास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

घर- घर बाजे ढोल औरी नगड़वा,
फगुनवा मास आ गइल.
आज झूमे सगरे जहनवां,
फगुनवा मास आ गइल.

माई से कहीं द, न आइम नैहरवा,
ससुरवां रास आ गइल.

अनिल कुमार ‘अलीन’

( चित्र गूगल इमेज साभार )



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 4.71 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ajay kumar pandey के द्वारा
March 29, 2013

अनिल भैया नमन अभी तो हाथ नहीं मारे हैं पर बोर्ड में हाथ मारेंगे अच्छे अंक प्राप्त करेंगे आपकी प्रतिक्रिया देखी प्रतिक्रिया का धन्यवाद अभी आप फिलहाल मई के महीने का इन्तजार करें जब परिणाम आएगा आपकी प्रतिक्रिया का आभार धन्यवाद

jlsingh के द्वारा
March 26, 2013

घर- घर बाजे ढोल औरी नगड़वा, फगुनवा मास आ गइल. आज झूमे सगरे जहनवां, फगुनवा मास आ गइल. माई से कहीं द, न आइम नैहरवा, ससुरवां रास आ गइल. अच्छा लागल ससुरवा पिया करे मोरा गुनगनवा ससुरवां रास आ गइल. नीक लागल ससुरारवा देखअ मधुमास आ गईल

Sandeep Kumar के द्वारा
March 25, 2013

Achchha laga, sundar hai…!! Good to see k tum sundar geet bhi likh lete ho….


topic of the week



latest from jagran